ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो पर भारत की Hydroxychloroquine के बेहतर परिणाम

17
Jair Bolsonaro tests positive for COVID-19

ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो (Jair Bolsonaro) इस समय कोरोनावायरस (Coronavirus) से संक्रमित हैं। उन्होंने बताया की उन्हें पूरा भरोस है की वो कोरोना वायरस (Coronavirus in Brazil) संक्रमण से जल्द ही उबर जाएंगे।

उन्होंने इसका श्रेय भारत से आयी हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन (Hydroxychloroquine) दवा को दिया है। आमतोर पर यही दवाई मलेरिया से लड़ने के लिए इस्तेमाल की जाती है। हालांकि हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन अब तक कोविड-19 के खिलाफ कारगर साबित नहीं हुई है।

रियो डी जेनेरियो

ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो ने हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा को लेकर भरोसा जताया है। उन्होंने बताया है की वो इस दवाई की सहयता से कोरोना वायरस के संक्रमण से जल्द ही ठीक हो जाएंगे।

भारत ने इस दवाई को कई देशों में कोरोना से लड़ने के उपलब्ध करवाया है। उन्होंने एक वीडियो के द्वारा इस टेबलेट की प्रशंसा की है.

उन्होंने वीडियो में बताया की – मैं यहां हाइड्रोक्सीक्लोरोक्विन की तीसरी खुराक ले रहा हूं. मुझे बहुत अच्छा लग रहा है. मैं रविवार को ऐसा ही था. मुझे सोमवार और मंगलवार को बुरा लग रहा था, मैं शनिवार को जो कुछ भी था उससे बहुत बेहतर हूं | निश्चित रूप से यह (टेबलेट) काम कर रही है, मुझे हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन (Hydroxychloroquine) पर भरोसा है|

मंगलवार की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

मंगलवार को उनकी कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। इसके बाद उन्होंने हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन (Hydroxychloroquine) का सेवन किया जिसके बाद से उनका बुखार कम हो गया।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बाद बोलसोनारो ने खाया हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन

बोलसोनारो ने कहा कि मैं ठीक हूं अच्छा महसूस कर रहा हूँ। हालांकि मैं यहां टहलना चाहता हूं लेकिन मेडिकल सुझावों के चलते मैं ऐसा नहीं कर सकता। इस दवा की प्रशंसा अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी की थी।

कोरोना से दूसरा सबसे ज्यादा प्रभावित देश बना ब्राज़ील

अमेरिका में अब तक दुनिया का सबसे कोरोनावायरस का प्रभावित देश है। अमेरिका में अब तक 29,93760 कोरोना के मामले सामना आये है। अमेरिका के बाद ब्राजील दुनिया में कोरोनावायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित देशों की सूची में दूसरे नंबर पर है। ब्राजील में कोरोनावायरस के 16,589 मामले सामने आ चुके है। जबकि 66 हजार से ज्यादा लोगों की अब तक मौत हो चुकी है।