कुंजुम ला पास ट्रेक हिमाचल प्रदेश में स्तिथ एक अद्भुत और लोकप्रिय पर्टयक स्थल

49
Kunzum_Pass_between_Lahaul_&_Spiti.jpg

हिमाचल प्रदेश में बहुत से लोकप्रिय और अद्भुत दर्रे और पास है, जो देश विदेश में अपनी लोकप्रियता के लिए जाने जाते है। कुछ ऐसा ही एक लोकप्रिय पर्टयक स्थान है, जो कुंजुम दर्रे (Kunzum Pass) के नाम से जाना जाता है, हिमाचल प्रदेश के जिला लाहौल-स्पीति में स्तिथ यह दर्रा अपने प्राकृतिक सौंदर्य (natural beauty) के लिए जाना जाता है।

हिमाचल में स्तिथ यह एक बहुत ही लोकप्रिय दर्रा है, कुंजुम ला दर्रे की समुंद्रतल से ऊंचाई लगभग 4,590 मीटर है।

यह लोकप्रिय अद्भुत स्थान मनाली से लगभग 122 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है। हिमाचल प्रदेश का यह कुंजुम पास (Kunzum Pass) लाहौल-स्पीति जिले का एक बेहद लोकप्रिय पर्टयक स्थानों (Popular Destinations) में से एक है। इस दर्रे को पार कर के स्पीती घाटी में पहुंचा जाता है।

माता कुंजुम के नाम पर पड़ा है इस दर्रे का नाम, This pass is named after Mata Kunzum

इस लोकप्रिय दर्रे का नाम यहाँ पर स्तिथ माता कुंजुम के नाम पर पड़ा है। इस पास में एक हिन्दूो का बेहद धार्मिक और बेहद पवित्र मंदिर स्थित है, जो हिन्दू धर्म से समबन्दित देवी दुर्गा को समर्पित है।

धार्मिक मान्यताओं (Religious beliefs) के मुताबिक यह कहा जाता है की जिसका मन सच्चा होता है और जो भी श्रदालु सच्चे मन से यहां दर्शन के लिए आता है। उसके हाथ द्वारा चिपकाया हुआ सिक्का माता की मुर्ति में चिपक जाता है। इसी कारण

आस्था का प्रतीक है यह दर्रा, This pass is a symbol of faith

यहाँ पर आये श्रद्धालु (Faithful) अपनी आस्था को प्रकट करने के लिए माता की मूर्ति पर सिक्के चिपकाने का प्रयास करते हैं। तथा जो श्रदालु सच्चे मन से इस दर्रे को पार करता है, उसका सिक्का माता की मूर्ति में चिपक जाता है। इस दर्रे के पास चन्द्र ताल झील भी स्तिथ है, जो बेहद ही खूबसूरत प्राकृतिक झील है।

रोहतांग दर्रा से 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है यह दर्रा, This pass is located 20 kilometres from Rohtang Pass

यह खूबसूरत झील राष्ट्रीय राजमार्ग 22 पर स्थित है। कुंजुम दर्रा रोहतांग दर्रा से 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक बेहद अद्भुत और प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर पर्टयक स्थान है। इस स्थान में दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा ग्लेशियर स्तिथ है।

Kunzum Pass
Kunzum Pass (Lahaul and Spiti District) – Himachal Pradesh

 

जिस की बजह से यहां भारी मात्रा में पर्टयक घूमने और समय व्यतीत करने के लिए आते है। इसके अलावा पर्टयक यहां मनाली, केलोंग चन्द्र-भागा और पांगी घाटी की भी यात्रा कर सकते है। जो हिमाचल प्रदेश में लोकप्रिय रमणीय स्थान है।

उच्च श्रेणी हिमालय में स्तिथ है यह दर्रा, This pass is situated in the high range Himalayas

यह पर्टयक स्थान हिमचाल प्रदेश प्रदेश के उच्च श्रेणी हिमालय में आता है। जिस की ऊंचाई समुंद्रतल से लगभग 3,000 से 6,000 मीटर तक की है। जिस कारण यहां का मौसम ज्यादा तर ठंडा रहता है। तथा पर्टयक यहां शीतल हवाओ को महसूस करते है। यह स्थान ज्यादा तर बर्फ से ढका रहता है। इस स्थान में भारी मात्रा में बर्फबारी होती है। इस स्थान में बहुत से खूबसूरत पर्वत स्तिथ है।

जिस बजह से इस घाटी की निचले स्थानों में गर्मियो में भी तापमान 20 डिग्री से उपर नही होता। तथा वातावरण शीतल और शांत होता है।

प्राकृतिक सौंदर्य और सुखद वातावरण के लिए जाना जाता यह कुंजुम ला दर्रा, Known for natural beauty and pleasant environment, this Kunzum La Pass

हिमाचल प्रदेश में स्तिथ इस घाटी के साथ और भी बहुत से गुमने और समय व्यतीत करने के लिए पर्टयक स्थान है। यह स्थान देश-विदेश में अपने प्राकृतिक सौंदर्य और सुखद वातावरण के लिए जाना जाता है।

यहां का रास्ता बेहद अवधाव एवं भूस्खलन (Avalanches and landslides) भरा है। जो यहां आये सैलानियों (tourists) को कभी-कभी मुशिकिलो में भी ढाल देता है। इस स्थान की अपनी लोकप्रियता और महत्वता के कारण यहां नई पक्की सड़को का निर्माण किया गया है।

हिमालयन राइडिंग के लिए उपयुक्त स्थान – Suitable location for Himalayan riding

यह मार्ग मई से नवम्बर तक खुला रखा जाता है। इस दौरान आप कभी भी यहां की यात्रा कर सकते है। इस दौरान बहुत से पर्टयक दो पहिया वाहनों (Two wheelers) के साथ हिमालयन राइडिंग के लिए इस स्थान में गुमने और समय व्यतीत करने के लिए आते है। यह दर्रा यहां आये पर्टयकों को बेहद रोमांचित करता है।