राम मंदिर के भूमि पूजन का मुहूर्त और तैयारियां

21
The first brick of the foundation of the grand temple of Sri Ramjanmabhoomi
The first brick of the foundation of the grand temple of Sri Ramjanmabhoomi

राम मंदिर के भूमि पूजन की तैयारियां शुरू कर दी गयी हैं। 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी खुद राम मंदिर का भूमि पूजन करेंगे। भूमि पूजन के बाद इस राम मंदिर के निर्माण का कार्य और भी तेज़ी और सुरक्षित के साथ किया जायेगा। कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुए इस कार्यक्रम में २०० मेहमान का अनुमान लगाया जा रहा हैं।

9 नवंबर 2019 को सुप्रेमे कोर्ट ने दिया था फैसला राम मंदिर के निर्माण का, 5 अगस्त  2020 को प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी द्वारा किया जायेगा भूमि पूजन

राम मंदिर भूमि पूजना के कार्यक्रम के चलते शहर को सजाया जा रहा हैं। कोरोना महामारी के चलते सोशल डिस्टन्सिंग का पूरा ख्याल रखा जायेगा।

अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन के कार्यक्रम की कुछ बातें

राम मंदिर के रुप-विषयक के अनुसार इसमें कुल मिलकर 17 भागो में बांटा गया हैं। जिन्हे शिखर, कलश गोपुरम रथ, गर्भगृह, प्रदक्षिणा अधिष्ठान, मंडप और अर्थ मंडप, परिक्रमा तोरण के हिस्सों में बांटा गया हैं। यह रुप-विषयक आम लोगों के लिए भी उपलब्ध करवाय जायेगा।

5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी अयोध्या जाकर राम मंदिर का खुद भूमि पूजन करेंगे। अयोध्या के भव्य राम मंदिर के भूमि पूजन से पहले प्रधानमंत्री मोदी इसके रुप-विषयक को देखंगे।

Ram Mandir bhumi Pooja
Ram Mandir bhumi Pooja

3 अगस्त से उत्सव मनाना शुरू हो जायेगा

वैसे तो राम मंदिर का भूमि पूजन 5 अगस्त को किया जायेगा, लेकिन अयोध्या में 3 अगस्त से उत्सव मनाना शुरू हो जायेगा। यंहा के माहोल को दीवानी जैसा बनाया जायेगा जिसके लिए अयोध्या की दीवारों की सजावट की जा रही है।

इसी दिन प्रशासन भी लाखों की संख्या में दिए जलाएंगे और उन्होंने लोगों से भी प्राथना की हैं की वो भी अपने घरो में दिए जलाये।

5 अगस्त बुधवार के दिन रामलला को हरे रंग के वस्त्र पहनाये जायेंगे। उन वस्त्रो में नवरत्न भी होंगे जो उन वस्त्रो को की सोभा बढ़ायेंगे। रामलला को प्रतेक दिन भिन्न भिन्न रंगो के वस्त्र पहनाये जाते हैं। भगवान श्री राम के साथ उसके तीनों भाइयो और राम भक्त हनुमान जी को भी नए वस्त्र पहनाये जांयेंगे।

भूमि पूजन को यादगार बनाने के लिए पूजा

भूमि पूजन के इस अवसर पर भूमि पूजन को यादगार बनाने के लिए हरिद्वार के हर की पौड़ी के ब्रह्मकुंड में साधुओं ने गंगाजल और मिटटी की पूजा की हैं। इस पवित्र गंगाजल और मिटटी को भूमि पूजन के अवसर के लिए अयोध्या में लाया जायेगा।

श्री राम भगवन भोले शंकर के रूप थे इसलिए भूमि पूजन के लिए महाकाल के वन की मिटटी, भस्म और शिप्रा नदी का पानी भी भेजा जायेगा।

पीएम मोदी हेलीकाप्टर के द्वारा आएंगे

पीएम मोदी हेलीकाप्टर के द्वारा 5 अगस्त को साकेत महाविद्यालय में प्रस्थान करेंगे। उसके बाद 11 बजे प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी राम मंदिर परिसर में प्रवेश करेंगे। उसके बाद भूमि पूजन का कर्यक्रम शुरू होगा।

राम मंदिर भूमि पूजन के बाद प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी अयोध्या को 500 करोड़ की भेंट देंगे। जो राम मंदिर के निर्माण के लिए होगी।