चीन-पाक के बीच हुआ ख़ुफ़िया समझौता, बनाई भारत के खिलाफ जैविक युद्ध की योजना

59
Secret agreement between China and Pakistan
Secret agreement between China and Pakistan

कोरोना वायरस के चलते चीन की आलोचना पूरी दुनिया कर रहा हैं लेकिन इसके बाद भी चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा हैं और चीन की इन हरकतों में अब पाकिस्तान भी उसका साथ दे रहा हैं। ख़ुफ़िया जानकारी के अनुसार पाकिस्तान और चीन भारत के खिलाफ साज़िश रच रहे हैं।

चीन और पाकिस्तान दोनों देश भारत के खिलाफ जैविक युद्ध की साज़िश रच रहा हैं। जिसमे चीन और पाकिस्तान ने एक दूसरे के साथ 3 साल का गुप्त समझौता भी किया हैं।

गुप्त समझौते के अनुसार यह दोनों देश जैविक हथियारों (Biological weapons) की संख्या को बढ़ाने के साथ साथ एंथ्रेक्स जैसे खतरनाक वायरस पर रिसर्च करेंगे।

चीन और पाकिस्तान ने बनाई भारत के खिलाफ जैविक युद्ध की योजना

इसका अनुमान लगाया जा रहा हैं की यह भारत के साथ अमेरिका और पश्चिमी देशों को निशाना बना सकतें हैं। इस सब रिसर्च का खर्चा चीन की वुहान लैब उठाएगी।

China and Pakistan plan biological war against India
China and Pakistan plan biological war against India

वुहान लैब में की जा रही है रिसर्च

खुफिया सूत्रों के अनुसार पाकिस्तान एजेंसी चीन की वुहान लैब के साथ ख़ुफ़िया समझौते के अनुसार एंथ्रेक्स जैसे खतरनाक वायरस में रिसर्च कर रही है।

जिसके साथ ही जैविक हथियार बनाने का कार्य भी आरंभ हो चूका है। इसके लिए चीन ने पाकिस्तान के शोधकर्ताओं को डाटा और जानकारी प्रदान करवाई है।

पाक वैज्ञानिकों को दी जाएगी ट्रेनिंग

जैविक हथियार को परिपक्व करने के लिए पाकिस्तान के वैज्ञानिकों को वुहान लैब में ट्रेनिंग प्रदान करवाई जा रही है। जिसके बाद से पाकिस्तान खुद का ही अपना वायरस तैयार कर पायेगा।

आपको यह भी बता दें कि इस ख़ुफ़िया समझौते पर किसी भी सरकार के कोई हस्ताक्षर नहीं है।

चीन क्यों दे रहा हैं पाकिस्तान का साथ?

कोरोना वायरस के बाद से चीन अब अपनी सर जमीन में ऐसे कर के फिर से दुनिया की नजरों में नहीं आना चाहता हैं, इसलिए चीन ने पाकिस्तान के साथ यह खुफिया समझौता किया है।

China and Pakistan plan biological war against India
China and Pakistan plan biological war against India

जिसमे चीन अपनी लैब को पाकिस्तान में ले जाकर वह इस काम को अंजाम दे सकें। लेकिन इसमें चिंता का विषय है की पाकिस्तान की लैब इतनी सुरक्षित नहीं है वो ऐसे वायरस को बाहर जाने से रोक सकें।

अगर पाकिस्तान खुद का वायरस बनाने में सफल हो गया तो यह बहुत खतरनाक हो सकता है पूरी दुनिये के लिए।