भारतीय सेना ने नाकाम की चीन सेना की घुसपैठ

भरता और चीन के सैनिको के झड़प का मामला फिर से सामने आया हैं। चीन के सैनिको ने 29 अगस्त की रात को पेंगोंग झील के पास से घुसपैठ करने की कोशिश की थी लेकिन सीमा में तैनात भारतीय सैनिको ने उनकी इस कोशिशक को नाकाम कर दिया हैं।

भारतीय सेना के पीआरओ कर्नल अमन आनंद ने यह जानकारी देते हुए बताया – 29 और 30 अगस्त की रात को चीन के सैनिको ने लद्दाक से पूर्वी झेत्र में से घुसपैठ करने की कोशिश की थी। उन्होंने दोनों देशो के बीच शांति बनाये रखनेके लिए हुए सैन्य और राजनयिक समझौते का उल्लंघन किया है।

पीआरओ कर्नल अमन आनंद ने यह भी बताया की हमारे जवानों ने पेंगोंग त्सो झील के दक्षिणी किनारे से चीन के जवानों की इस नापाक हरकत को नाकाम कर दिया है। भारतीय सेना के जवानों ने हमारी स्थिति को इस इलाक़ में मजबूत किया हैं और जमीन की स्थिति के बदले के की कोशिश को नाकाम किया हैं।

जून के महीने में पूर्वी लद्दाक की गलवां घाटी में दोनों देशों के जवानों के बीच में हिंसक झड़प हुई थी। जिसमे भारत के 20 जवान शहीद हो गये थे। वहीं दूसरी और चीन ने इस झड़प में गहन हुए जवानों की कोई जानकारी नहीं दी थी। लेकिन अमेरिका की एक खुफ़िआ रिपोर्ट के अनुसार इस झड़प में चीन के 35 जवानों के हताहत होने का दवा किया था।

पिछले कुछ महीनों से भारत को चीन की सेना की बीच पूर्वी लद्दाक में LAC की सीमा के कई क्षेत्रों में गतिरोध जारी हैं। भारत इस बात पर जोर दिए हुए है की चीन को फिंगर 4 और 8 के बीच के क्षेत्रों से अपनी सेना को हटाना लेना चाहिए।

श्रीनगर – लेह में मार्ग पर लोगों का आने जाने पर रोक लगाई

सूत्रों के अनुसार LAS सीमा पर चल रहे तनाव के माहोल को देखते हुए भारतीय सेना ने शीरनगर – लेह मार्ग और लोगों के आने जाने पर रोक लगा दी हैं। खराब मौसम के कारण भी यह फैसला लिया गया हैं। श्रीनगर – लेह मार्ग पर सिर्फ सेना के वाहनों और जरूरी कार्य वाले लोगों की इसकी छूट दी गयी हैं।

चीन ने की बहुत सी असफल कोशिश

भारत ने 1990 में फिंगर एरिया पर अपना दवा किया था। लेकिन तब चीन की सेना यह सड़क का निर्माण कर रहा था जो चीन का हिस्सा हैं ओस उसके निरयंत्र में हैं। चीन ने फिंगर एरिया को अपने कब्जे में लेने की बहुत सी असफल कोशिश की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *