माइग्रेन के दर्द के लक्षण, कारण और उपाए

आज के समय हर व्यक्ति अपनी ज़िन्दगी में काफी व्यस्त हो चूका हैं। जिसके चलते यह काफी तनाव महसूस करता हैं और तनाव के कारण सिर में दर्द होना एक आम बात हैं। पहले यह समस्या तो एक आम समस्या लगती हैं लेकिन अगर आपको यह समस्या बहुत दिनों से हैं तो यही माइग्रेन बन सकती हैं।

मैगेन से आपके सिर में बहुत तेज़ का दर्द हैं जिससे छुटकारा पाने के लिए लोग दवाईओं के सहरा लेते हैं।

आपको माइग्रेन की शुरुआत में संकेत मिलना शरू हो जाते है लेकिन उनको समझना आसान नहीं होता हैं और आगे चलकर यह भयंकर बीमारी बन जाती हैं।

माइग्रेन के प्रकार

माइग्रेन बहुत तरह के होते हैं , आइये जानते है माइग्रेन के प्रकार

ऑप्टिकल माइग्रेन (Optical migraine)

ऑप्टिकल माइग्रेन (Optical migraine) को ऑय माइग्रेन भी कहा जाता हैं। इसके नाम से आपको पता चला गया होगा यह सीधा आपकी आँखों में असर करता हैं। इसमें आपकी आँखे खराब होने लगती हैं, नज़र कमजोर होने लगती हैं। अगर आपके ऐसा महसूस होता है तो आपको जल्दी से किसी डॉक्टर की मदद लेनी चाहिए।

मासिक धर्म माइग्रेन (Menstrual Migraine)

मासिक धर्म माइग्रेन (Menstrual Migraine) केवल महिलाओं को होता हैं। यह माइग्रेन 60 प्रतिशित महिलाओं को होता हैं जो मासिक धर्म के शुरू होने पर होता हैं।

क्रोनिक माइग्रेन (Chronic migraine)

यह माइग्रेन ज्यादातर उन लोगो को होता हैं जो दवाइयों का सेवन ज्यादा करते हैं। इसे मिश्रित सिर दर्द (
Mixed headache) के नाम से भी जाना जाता हैं। क्युकी इसमें तनाव और माइग्रेन सिर दर्द के कोशिकाएँ शामिल होती हैं।

दृष्टि रहित माइग्रेन (Blind migraine)

यह माइग्रेन आम माइग्रेन हैं लेकिन दुनिये भर में इसके केवन 10 प्रतिशित लोग ही इसके शिकार हैं। इसे कॉमन माइग्रेन (Common Migraine) भी कहा जाता हैं। इस माइग्रेन में लोगो को लोगो को बहुत तेज़ का दिर दर्द होता हैं और इसके अलावा उन्हें उलटी जैसी परेशानियों का समना करना पड़ता हैं।

दृष्टि संबंधी माइग्रेन (Visual migraine)

यह माइग्रेन केवल 25 प्रतिशित लोगो में पाया जाता हैं। इसमें व्यक्ति को देकने में दिक्कत होती हैं, नज़र में काले दाग नज़र आते हैं और रोशनी में चकाचौंध नज़र आता हैं। इसे कैल्सिस माइग्रेन (Classic migrain) भी बोलते हैं।

माइग्रेन के लक्षण

माइग्रेन के बहुत से लक्षण होते हैं। ऐसा माना जाता हैं मस्तिष्क में रसायन , नसों और कोशिकाओं में होने वाले बदलवा इसका एक कारण हैं। यदि किसी व्यक्ति में माइग्रेन के यह लक्षण दिखाई दे तो उन्हें इससे नज़रअंदाज करने की गलती बिलकुल न करेंऔर जल्दी से डॉक्टर में मिले। आएंगे जानते हैं क्या है माइग्रेन के लक्षण।

भूख लगना (Feeling Hungry)

भूख लग्न आम बात है जिसके लिए 3 बार भोजन करना चाहिए। परन्तु कुछ लोगों को थोड़ी थोड़ी देर बाद भूख लगती रहती हैं। जिससे वह नज़रअंदाज करते हैं। लेकिन ऐसी स्तिथि में उन्हें इससे नज़रअंदाज नहीं करना चाहिए और जल्द से डॉक्टर से इसके बारे में सलाह लेनी चाहिए।

कब्ज का होना (Constipation)

कब्ज की समस्या को कभी हल्के में नहीं लेना चाहिए। क्युकी यह छोटी से समस्या आपको आगे चलकर बहुत परेशान कर सकती हैं। यह समस्या सिर की भी हो सकती हैं।

बार-बार जम्हाई का आना (Recurring yawning)

कम सोने के कारण आपको थोड़ी थोड़ी देर बाद जम्हाई आती हैं। लेकिन कुछ लोग दिन भर जम्हाई लेते रहते हैं। जिससे वह नज़रअंदाज करते हैं लेकिन यह उनके लिएमाइग्रेन का संकेत हो सकते है।

गर्दन में अकड़न रहना (Stiff neck)

थकावट के कारण अक्सर लोगों को गर्दन अकड़ने लड़ती हैं जो की उनके लिए बात होती हैं। लेकिन यह सर्वाइकल की और संकेत करता हैं जो की माइग्रेन जैसी बीमारी को जन्म देती हैं।

माइग्रेन के कारण

माइग्रेन के असली कारण क्या हैं यह अभी तक स्पष्ट नहीं हैं। दिमार में आये बदलवा को सबसे अहम् कारण माना गया हैं। नीचे हम आपको बताएंगे माइग्रेन के कारण।

अधिक दवाई का सेवन करना (Consuming more medicine)

अगर कोई व्यक्ति किसी बीमारी के चलते दवाइयों का अधिक सेवन करता हैं तो उसे मानसिक समस्या हो सकती हैं। ऐसे में व्यक्ति को डॉक्टर की सलाह के बिना किसी भी दवाई का सेवन नहीं करना चाहिए।

ज्यादा तनाव लेना (Over stress)

जो लोगों अधिक तनाव में रहते हैं उनमे माइग्रेन की समस्या अधिक देखने को मिलती हैं। तनाव लेने से आपके दिमाग की कोशिकाएँ कमजोर होने लगती हैं। जोमाइग्रेन के मुख्य कारण हैं।

अस्वास्थ्यकर भोजन (Unhealthy food)

पौष्टिक भोजन का सेवन करने से आप अपने शरीर, दिल और दिमाग को स्वस्थ रख सकते हैं। पौष्टिक भोजन के सेवन से आपकी इम्युनिटी मजबूत होती हैं जो की आपके सिर के परेशनियो को दूर करता हैं।

माइग्रेन के इलाज

अगर कोई य्वक्ति माइग्रेन का शिकार है तो नीचे दिए गए उपायों को जरूर अपनाना चाहिए।

योग (Yoga)

आज के समय योग आपके शरीर, दिल और दिमागके लिए हर तरीके से फायदेमंद हैं। यह आपको बहुत सी बीमारियों से निजात दिला सकते हैं। अगर आप माइग्रेन की बीमारी से जूझ रहे हैं तो आपको योग जरूर करना चाहिए।

व्यायाम (Exercise)

व्यायाम करने से भी आप मिआग्रैन की छुटकारा पा सकते हैं। व्यायाम करने से आपका ह्दय स्वस्थ रहता हैं, दिमाग की नस्से खुलती हैं। दिमाग में ऑक्सीजन को जाने में आसानी होती है।

कैफीन (Caffeine)

कैफीन के सेवन से आप माइग्रेन के छुटकारा पा सकते हैं। जसिएक लिए कॉफ़ी, पैन किलर टेबलेट के सेवन क्र सकते हैं। लेकिन इस बात का ध्यान रखे इसका ज्यादा सेवन न करें, यही आपके की खतरनाक हो सकता हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *