airport-in-the-country

नोएडा में बनेगा देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट 2023 से शुरू होगी उड़ने

भारत में अब देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट बनने जा रहा है, प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है, अब नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (नियाल) के साथ ही ज्यूरिख कंपनी के प्रतिनिधि इस पर हस्ताक्षर करेंगे साथ ही बताया जा रहा है की करार के साथ ही 2023 में

उड़ान शुरू होने की उम्मीद दोगुनी हो जाएगी साथ ही बताया जा रहा है की ज्यूरिख कंपनी के प्रतिनिधि पहले ही भारत आ चुके हैं अब यह देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा।

यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड के नाम से स्पेशल परपज व्हीकल (एसपीवी) कंपनी बनाई

जानकारी के अनुसार अधिकारियों के मुताबिक कहा जा रहा है की नोएडा एयरपोर्ट के निर्माण के लिए ज्यूरिख इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड एजी ने इस यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड के नाम से स्पेशल परपज व्हीकल (एसपीवी) कंपनी बनाई है जो इस का निर्माण करेगी।

कंपनी और नियाल में करार होगा

इसी के साथ इस कंपनी और नियाल में करार होगा साथ ही बताया जा रहा है की कोरोना वायरस को ध्यान में रखते हुए ऑनलाइन प्रेसवार्ता होगी। इसी के साथ इसमें कई देशों के मीडिया प्रतिनिधि भी शामिल होंगे।

मलेशिया और स्विट्जरलैंड से भी ऑनलाइन इस करार में शामिल

साथ ही नियाल के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने बताया कि ज्यूरिख इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड एजी के अधिकारी मलेशिया और स्विट्जरलैंड से भी ऑनलाइन इस करार में शामिल होंगे जिस से यह एयरपोर्ट बनाया जाएगा।

साथ ही बताया जा रहा है की इसके लिए यीडा/नियाल के दफ्तर को सजाकर गमलों पर चित्रकारी की गई है। यह इसके लिए दिल्ली विवि आर्ट्स के छात्रों को बुलाया गया है। दिन भर रंगाई-पुताई का काम चलता रहा है।

यह पहले भी 02 बार टल चुकी थी। इसी के साथ करार की तिथि पहले भी दो बार तल चुकी है।

इसी के साथ बताया जा रहा है की एयरपोर्ट बनाने के लिए करार की तिथि 02 बार पहले टल चुकी है इसी के साथ बताया जा रहा है की कोरोना वायरस के कारण उड़ानें न होने से ज्यूरिख कंपनी के प्रतिनिधि देश में नहीं आ पा रहे थे।

इसी के साथ ज्यूरिख कंपनी की तरफ से गठित एसपीवी कंपनी को सिक्योरिटी क्लीयरेंस मिलने के 45 दिन के भीतर कंसेशन एग्रीमेंट पर हस्ताक्षर होना बेहद जरूरी होता है।

एसपीवी को सिक्योरिटी क्लीयरेंस 18 मई को मिली थी

साथ ही बताया जा रहा है की एसपीवी को सिक्योरिटी क्लीयरेंस 18 मई को मिली थी प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की 2 जुलाई तक एग्रीमेंट होना जरूरी था। कोरोना वायरस के कारण अभी तक 17 अगस्त तक इसकी तिथि बढ़ाई गई थी। इसी के साथ हालात सामान्य नहीं होने पर तिथि फिर 15 अक्टूबर तक की गई थी।

ग्रेटर नोएडा व यमुना प्राधिकरण की 12.5-12.5 प्रतिशत की हिस्सेदारी

बताया जा रहा है की नियाल में 04 संस्थाएं हिस्सेदार हैं इसी के साथ राज्य सरकार व नोएडा प्राधिकरण की 37.5-37.5 प्रतिशत हिस्सेदारी है प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की ग्रेटर नोएडा व यमुना प्राधिकरण की 12.5-12.5 प्रतिशत की हिस्सेदारी है।

इसी के साथ बताया जा रहा है की कई बड़ी कंपनियों ने आवेदन किए थे। लेकिन सबसे ज्यादा राजस्व देने की बोली लगाकर ज्यूरिख ने करीब 29,500 करोड़ रुपये के नोएडा एयरपोर्ट प्रोजेक्ट को हासिल कर लिया।

कंपनी ने 400.97 रुपये प्रति यात्री राजस्व देने का प्रस्ताव दिया

प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा है की कंपनी ने 400.97 रुपये प्रति यात्री राजस्व देने का प्रस्ताव दिया है। इसी के साथ जबकि अडानी इंटरप्राइजेज लिमिटेड ने 360 रुपये, साथ

ही दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (डायल) ने 351 रुपये और एनकोर्ज इंफ्रास्ट्रक्चर इनवेस्टमेंट होल्डिंग लिमिटेड ने 205 रुपये प्रति यात्री राजस्व देने की बोली लगाई थी इसी के साथ अब यह नोयडा का सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा।

In Noida, which is going to be the largest airport in the country, the hopes of flying will double in 2023