IOS

क्या होता है यह Apple फ़ोन में iOS जानिए पूरी जानकारी

आज कल हर किसी के पास मोबाइल फ़ोन होता है कई लोगों के पास साधारण तो कई लोगों के पास महंगा, आज हम आप को एप्पल मोबाइल फ़ोन के फीचर iOS के बारे में जानकारी अपनी इस पोस्ट के माध्यम से देंगे।

आज कल लोगों में Apple Smartphones का एक अलग ही क्रेज़ देखने को मिलता है। आईफोन को लोग एक स्टेट्स सिंबल मानते हैं जिस का कारण इस कम्पनी की अच्छी शाख मानी जाती है।

व्यक्ति जो महंगे फ़ोन रखने की चाह रखता है वो ऐप्पल के डिवाइसेस की लॉन्चिंग का बेसब्री से इंतज़ार करते हैं।

आपने कभी सोचा है कि आईफोन में ऐसा क्या ख़ास है जिस वजह से लोग इस फ़ोन के लिए इतना क्रेज़ी हैं इसका कारण इस फ़ोन का ऑपरेटिंग सिस्टम माना जाता है।

आज हम इस पोस्ट में हम आपको iOS के बारे में डिटेल में जानकारी देंगे कि आखिर यह होता क्या है तथा इस का क्या इतिहास है।

Contents

क्या है iOS एप्पल का ऑपरेटिंग सिस्टम

आप को शायद पता होगा कि एंड्रॉयड और विंडोज की ही तरह iOS एप्पल का ऑपरेटिंग सिस्टम है, जिस वजह से इस फ़ोन को ऑपरेट किया जाता है। लेकिन ये एंड्रॉयड और विंडोज से एकदम अलग माने जाते हैं।

जिस को Apple Incorporated ने डेवलेप किया है यह एक बहुत ही ऑपरेटिंग सिस्टम अपने ग्राहकों को प्रदान करता है।

मल्टीटच इंटरफेस पर करता है वर्क

एंड्रॉयड के बाद ऐप्पल दुनिया का सबसे ज़्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला और लोकप्रिय मोबाइल माना जाता है। इसी के साथ यह एक बहुत ही प्रसिद्ध ऑपरेटिंग सिस्टम है।

इस फ़ोन का iOS मल्टीटच इंटरफेस पर वर्क करता है जिसमें सिंपल gesture का इस्तेमाल किया जाता है जो इस फ़ोन को और भी ज्यादा लोकप्रिय बनाता है।

फोन की स्क्रीन को zoom करने के लिए उंगलियों से करना होता है पिंच

इस का मतलब यह है कि आप डिवाइस पर उंगली को स्वाइप करने से अगले पेज पर जा सकते हैं यह एक बहुत ही आकर्षित सिस्टम माना जाता है, इसी के साथ फोन की स्क्रीन को zoom करने के लिए उंगलियों से पिंच करना होता है और स्क्रीन जूम हो जाती है जो इस को और भी ज्यादा प्रसिद्ध बनाता है।

इस के साथ आईओएस अपने डिवाइस के सेंसर को पावरफुल और स्ट्रॉंग बनाती है इस फ़ोन के यह सभी अद्भुत फीचर इस फ़ोन को और भी ज्यादा प्रसिद्ध बनाते हैं।

ऐप्पल के ऐप स्टोर में 2 मिलियन से भी ज़्यादा आईओएस ऐप्ल एवेलेबल

इस प्रसिद्ध और लोकप्रिय ऐप्पल के ऐप स्टोर में 2 मिलियन से भी ज़्यादा आईओएस ऐप्ल एवेलेबल है, जिस वजह से इस मोबाइल को हर कोई ख़रीदना चाहता है इसी के साथ साल 2005 में स्टीव जॉब्स ने आईफोन बनाने के प्लान पर काम करना शुरू कर दिया था।इस की मांग में बहुत ही बढ़ोतरी हुई है।

पहले इनके पास 02 ऑप्शन थे।पहला था मैक (ऐप्पल का डेस्कटॉप) को छोटा करना और दूसरा था ipod को बड़ा करना और आज आप को एप्पल के मोबाइल से लेकर इस के लेपटॉप तक मिल जाएंगे।

साल 2007 में आईफोन को पहली बार मार्केट में लॉन्च किया गया

इसी के साथ बताया जा रहा है कि इसी कंफ्यूज़न के बीच स्टीव ने मैक और आईपॉड बनाने वाली टीम से मुलाकात की थी वहां से इन्हे इस बारे में आइडिया आया कि iOS का बनाया जाएगा,

ios के बनने के बाद साल 2007 में आईफोन को पहली बार मार्केट में लॉन्च किया गया तथा इसी लोगो द्वारा बहुत ही पसंद किया गया तथा इस की खूब बिक्री हुई।

थर्ड पार्टी ऐप को डिवाइस में रन नहीं किया जा सके

इस आईफोन के ऑपरेटिंग सिस्टम को इस तरह से तैयार किया गया था कि इसमें कोई भी थर्ड पार्टी ऐप को डिवाइस में रन नहीं किया जा सके जिस का कारण यह था कि इस फ़ोन को किसी भी प्रकर से हैक ना किया जा सके तथा ना ही इस में कोई वायरस आ सके।

कंपनी अपने ऑपरेटिंग सिस्टम को अपग्रेड करती

इसी के साथ ऐप्पल के जिस आईओएस को आज हम सब इस्तेमाल कर रहे हैं तथा यह मोबाइल आज की डेट में सबसे लोकप्रिय बन गया है। बताया जा रहा है कि उसे कई बार अपग्रेड किया जा चुका है।

साथ ही हर साल कंपनी अपने ऑपरेटिंग सिस्टम को अपग्रेड करती है और नया वर्ज़न मार्केट में लॉन्च करती है तथा लोगों द्वारा इसे बहुत ही पंसद किया जाता है।

ios इस मोबाइल फ़ोन में कर रहा रन

साथ ही जब इस लोकप्रिय आईफोन को लॉन्च किया गया था तब उस वक्त ऐप्पल के ऑपरेटिंग सिस्टम को OSX नाम दिया गया था जिस को साल 2008 में ऐप्पल ने oas को रिनेम किया और iPhone OS, इसके बाद साल 2011 में इसे iOS के नाम से रिब्रांड किया गया तथा अभी ios इस मोबाइल फ़ोन में रन कर रहा है।

आईओएस का नया अपग्रेडेड वर्ज़न लॉन्च

यह प्रसिद्ध ऐप्पल मोबाइल हर साल आईओएस का नया अपग्रेडेड वर्ज़न लॉन्च करती है तथा हर साल लोगों को इसे खरीदने की उत्सुकता होती है, एप्पल का यह आईओएस दूसरे ऑपरेटिंग सिस्टम से प्रोटेक्शन की लिहाज से काफी अलग और बेहतर माना जाता है।

ओएस अपनी ऐप्स को वायरस से भी करता है प्रोटेक्ट

इस ओएस में सारी ऐप्स को एक प्रोटेक्टिव शेल में रखा जाता है। इसके अलावा ओएस अपनी ऐप्स को वायरस से भी प्रोटेक्ट करता है तथा इस की वजह से आप के मोबाइल में किसी भी प्रकार का कोई वायरस इस फ़ोन में नहीं आ पाता।

एप्पल का यह आईएस अपडेशन के मामले में भी दूसरे ओएस से काफी अलग

इसी के साथ इसके अलावा ऐप्पल का ओपरेटिंग सिस्टम दूसरे ओएस के मुकाबले अपने डिवाइस को काफी स्मूद टास्किंग ऑफर करता है तथा इस के अद्भुत प्रोग्राम इसको और भी ज्यादा आकर्षित बनाते हैं।

एप्पल का यह आईएस अपडेशन के मामले में भी दूसरे ओएस से काफी अलग है तथा इस के फीचर भी बहुत अलग है।

हर साल होता है अपडेट iOS

एप्पल की कंपनी हर साल अपने ओएस को अपग्रेड करती रहती है साथ ही जिसके कारण इस में कमियां दूर होती रहती है तथा लोग नए-नए फीचर्स का इस्तेमाल इस में कर पाते हैं साथ ही यूज़र्स को नए फीचर्स देखने को मिलते हैं, ऐप्पल के ऐप स्टोर को ज़्यादा सुरक्षित माना जाता है क्योंकि यह एक बहुत बड़ी कम्पनी है।

एप्पल में iOS के वर्ज़न्स अलग अलग होते है (Version of iOS )

जानकारी के अनुसार अभी तक iOS के 10+ versions सामने आ चुके हैं, यहाँ पर हम आपको उन सभी के बारे में विस्तार से बता देते है।

सबसे पहले. iPhone OS 1.X

एप्पल के इस आईफोन के ऑपरेटिंग सिस्टम का पहला वर्ज़न था यह iPhone OS 1.X जिसके बाद साल 2007 में इसे लॉन्च किया गया था, साथ ही इस वर्ज़न में कंपनी ने एक Touch Centric System को इंट्रोड्यूस किया है।

यह ऐप्पल के डेस्कटॉप ओएस जैसा ही था जिस वजह से उस समय यह बहुत ही लोकप्रिय और प्रसिद्ध हो गया था। उसके बाद फिर अलग अलग इसके अपडेट आते गए तथा इसके बाद इस के प्रोग्राम्स में भी बहुत सी चेंज़िंगस आती गईं।