jakhu-ropeway-shimla

जाखू रोपवे शिमला में स्तिथ एक लोकप्रिय और प्रसिद्ध रोमांचित सफर

हिमाचल प्रदेश में बहुत सी रोमांचित गतिविधियाँ की जाती हैं। इन्ही में से एक है जाखू Ropeway जो एक रोमांचित यात्रा है। यह हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में स्तिथ है।यह राजधानी शिमला का पहला Ropeway है। 2007 में इसका शिलान्यास किया गया था। 10 साल के लंबे अंतराल के बाद Ropeway बनकर तैयार हुआ है।

इसकी यात्रा करने के लिए देश विदेश से यात्री यहां पहुंचते हैं। Switzerland की तकनीक पर बनाए गए इस Ropeway के निर्माण पर Jackson Company ने करीब 30 करोड़ रुपये खर्च किए हैं।जो यहां घूमने आए सैलानियों को बहुत ही रोमांचित करता है।

भारत में सबसे सुरक्षित Ropway में से एक

इस Ropway के ज़रिये पर्टयको को यह शानदार गोंडोला की सवारी समुद्र तल से 8,054 फीट की उंचाई पर ले जाती है। जिसमें केवल सिर्फ 5 से 6 मिनट लगते हैं।

जाखू रोपवे हिमाचल प्रदेश के 04 प्रमुख Ropway आकर्षणों में से एक है। यह पूरे भारत में सबसे सुरक्षित Ropway में से एक माना जाता है। रोपवे यात्रा के दौरान आस-पास के दृश्य अपनी सुंदरता से आपको हैरान कर देते हैं। यहां का नजारा सच मे मनमोहक है जो देश विदेश से आये सेलानियो के रोमांच का एक बहुत ही अच्छा साधन है।

यह स्थान अपने अद्भुत और सुखद वातावरण के लिए देश विदेश से पर्टयकों को अपनी ओर आकर्षित करता है।

3 साल से कम उमर के बच्चों के लिए यहां की सवारी निःशुल्क

इसका शुल्क उमर के हिसाब से अलग अलग रखा गया है। यह 3 साल से कम उमर के बच्चों के लिए यहां की सवारी निःशुल्क कर दी गयी है और 3-12 साल के बच्चों के लिए इसका शुक्ल केवल 200 रूपये का रखा गया है।

इसी के साथ वयस्कों के लिए टिकट की लागत 250 रूपये है। यह शुल्क केवल एक साइड का ही है। पर्यटक वापिस गाड़ी में या फिर पैदल चल के भी आ सकते है। पर्टयकों को रास्ते में प्राकर्तिक सौंदर्य के बहुत से अद्भुत दृश्य देखने को मिलेंगे।

जाखू मंदिर के लिए Ropeway खुलने का समय

यहां से प्रतिदिन जाखू मंदिर के लिए Ropeway की सवारी सुबह 9:30 बजे से शाम 6:00 बजे तक (यानी सूर्यास्त तक) जारी रहती है। इस बीच आप कभी भी यहां की सवारी का मज़ा ले सकते हैं।

पर्टयक प्रकृति को निहारते हुए कब मंदिर में पहुंच जाते हैं पता ही नहीं चलता। हिमाचल प्रदेश में स्तिथ यह एक रोमांचित सफर है।

Jakhu Ropeway A popular and famous thrill journey in Shimla, capital of Himachal Pradesh