kungri-gompa

Kungri Gompa लाहौल स्पीति में स्तिथ एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थान

कुंगरी गोम्पा हिमाचल प्रदेश के जिला लाहौल स्पीति में स्तिथ एक बहुत ही लोकप्रिय और प्रसिद्ध पर्टयक स्थान है। जो अपनी लोकप्रियता के लिए देश विदेश में जाना जाता है।

हिमाचल प्रदेश में स्तिथ यह एक बहुत ही ऐतिहासिक और लोकप्रिय धार्मिक स्थल है। हर साल यहां भारी मात्रा में सैलानी घूमने और समय व्यतीत करने के लिए आते है। लाहौल स्पीति में बहुत से लोकप्रिय और प्रसिद्ध पर्टयक स्थान है।

जिन में से बहुत से रोमांचित और कई बहुत ही धार्मिक स्थल है। जो देश-विदेश में अपनी लोकप्रियता के लिए जाने जाते है।

हिमाचल प्रदेश में बहुत से बौद्ध धर्म से संबंदित धार्मिक स्थल है। जो बेहद आकर्षित और लोकप्रिय माने जाते है। देश विदेश से यहां श्रदालु दर्शन करने के लिए आते है।

हिमाचल में ज्यादा तर बौद्ध धर्म का प्रभाव लाहौल स्पीति और किन्नौर में देखने को मिलता है

हिमाचल अपने ऐतिहासिक बौद्ध धर्म के लिए देश विदेश में लोकप्रिय है। पर्टयक यहां बहुत से बौद्ध धर्म से समबन्दित मठो और धार्मिक स्थानों को देख सकते है। हिमाचल प्रदेह में ज्यादा तर बौद्ध धर्म का प्रभाव लाहौल स्पीति और किन्नौर में देखने को मिलता है।

एक ऐसा ही धार्मिक स्थान हिमाचल प्रदेश की स्पीति घाटी में जो कुंगरी मठ नाम से जाना जाता है। यह धार्मिक स्थान बेहद ऐतिहासिक और लोकप्रिय माना जाता है।

यह स्पीति घाटी का दूसरा सबसे पुराना मठ माना जाता है। इस लोकप्रिय और प्रसिद्ध धार्मिक स्थान को लगभग 1330 ई के आसपास बनाया गया था।

कुंगरी बौद्ध धर्म में प्रचलित तांत्रिक पंथ के अचूक प्रमाण प्रदान करता है

यह धार्मिक और लोकप्रिय स्पीति के कुंगरी गोम्पा ने हाल ही में अपने नवीनीकरण के लिए बड़े विदेशी दान प्राप्त करने के बाद बहुत से पर्टयकों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करता है।

हिमाचल प्रदेश में स्तिथ यह धार्मिक मठ अपनी ऐतिहासिकता और लोकप्रियता के लिए जाना जाता है। यह लोकप्रिय और प्रसिद्ध धार्मिक स्थान कुंगरी बौद्ध धर्म में प्रचलित तांत्रिक पंथ के अचूक प्रमाण प्रदान करता है।

कुंगरी गोम्पा स्पीति में निंगमा-पा संप्रदाय का मुख्य केंद्र माना जाता है। इस लोकप्रिय और प्रसिद्ध गोम्पा में पूर्व की ओर तीन खंडित आयताकार ब्लॉक हैं। जो यहां आये सैलानियों को अपनी ओर आकर्षित करता है।

कुंगरी गोम्पा हिमाचल प्रदेश के पिन घाटी में 3 किमी की दूरी पर स्थित

स्पीति घाटी में स्तिथ कुंगरी गोम्पा हिमाचल प्रदेश के पिन घाटी में 3 किमी की दूरी पर स्थित है। जो स्पीति के उप-विभागीय जिला मुख्यालय से लगभग 12 किमी की दुरी पर स्थित है।

यहां आये पर्टयक पिन घाटी तक पहुंचने के लिए आश्चर्यजनक स्पीति नदी को पार करना पड़ता है। पर्टयक यहां धार्मिक स्थानों के साथ ही बहुत सी साहसिक खेलो में भी भाग ले सकते है।

तिब्बती बौद्ध धर्म का सबसे पुराना आदेश स्तिथ

इस मठ को एकमात्र मठ होने का गौरव प्राप्त है, जो बौद्ध धर्म के निंगमापा क्रम का है। यह तिब्बती बौद्ध धर्म का सबसे पुराना आदेश माना जाता है। यह मठ अतीत से लेकर आज तक पिन घाटी में मौजूद तिब्बती परंपरा के मजबूत प्रभाव को दर्शाता है।

जिस से यहां आये सैलानी इस की ओर आकर्षित होते है। हिमाचल प्रदेश में स्तिथ यह एक बहुत ही लोकप्रिय और प्रसिद्ध पर्टयक स्थान है।

कुंगरी मठ में आंतरिक दीवारों पर विभिन्न बौद्ध देवताओं के रेशम चित्रों को चित्रित किया है

हिमाचल प्रदेश का यह ऐतिहासिक कुंगरी मठ में आंतरिक दीवारों पर विभिन्न बौद्ध देवताओं के रेशम चित्रों को चित्रित किया है। जो यहां आये सैलानियों को बेहद आकर्षित करता है। इस मठ में विशाल मूर्तियों और 300 से अधिक पवित्र तिब्बतियों के शोकेस किए हैं जो बहुत ही लोकप्रिय है।

प्रसिद्ध मठ बौद्ध विद्वानों, तीर्थयात्रियों और दुनिया भर से आये पर्यटकों के लिए एक लोकप्रिय स्थान

इस लोकप्रिय और धार्मिक मठ में ग्रंथों केनजूर और तेनजूर को सफेद मलमल में सावधानी से संरक्षित किया गया है। जो यहां आये सैलानियों और श्रदालुओ को बहुत ही रोमांचित करता है।

यह लोकप्रिय और प्रसिद्ध मठ बौद्ध विद्वानों, तीर्थयात्रियों और दुनिया भर से आये पर्यटकों के लिए एक लोकप्रिय और खूबसूरत स्थान माना जाता है। इस लोकप्रिय और प्रसिद्ध मठ का प्राथमिक उद्देश्य प्राचीन तिब्बती बौद्ध कला, संस्कृति और परंपरा के खजाने को प्रदर्शित करना है।

कुंगरी मठ की यात्रा करने का सही समय

हिमाचल प्रदेश में स्तिथ यह कुंगरी मठ धनकर मठ के करीब स्थित है। जो यहां आये सैलानियों को बहुत ही रोमांचित करता है। यह स्थान हर साल बहुत से पर्टयकों को अपनी ओर आकर्षित करता है।

सैलानी यहां बस के माद्यम से पहुंच सकते है। पर्टयकों के लिए यहां की यात्रा करने का सही समय गर्मियों के दौरान का है, यह धार्मिक और लोकप्रिय मठ बर्फीले रेगिस्तान में स्तिथ है।

सर्दियों के मौसम के दौरान बंद रहता है यहां आने का रास्ता

जो सर्दियों के दौरान बेहद ठण्डा होता है। इसके साथ ही सर्दियों के समय में यहां भारी मात्रा में बर्फबारी भी होती है। जो यहां आये सैलानियों को बहुत ही आकर्षित और रोमांचित करती है।

पर्टयकों के लिए यहां आने का सही समय मई से अक्टूबर के बिच का माना जाता है। इस दौरान यहां कभी भी यात्रा कर सकते है। आप कभी भी इस स्थान की यात्रा कर सकते है।

Kungri Gompa is a popular and famous religious place in the district Lahaul Spiti of Himachal Pradesh