special-care-should-be-kept-while-driving

वाहन चलाते समय रखे किन-किन बातो का विशेष ध्यान, जानिए पूरी जानकारी

यदि आप को भी यातायात संकेतों की इतनी अधिक समज नहीं है तो आप को घवराने की जरुरत नहीं है हम आज आप को अपने इस आर्टिकल से यातायात के नियमो और संकेतो की पूरी जानकारी देंगे हमारी इस पोस्ट को पूरा पढ़े।

यातायात संकेत सड़क पर यातायात के मूक कंडक्टर के रूप में कार्य करते हैं जिस से आप को सड़क में वाहन चलाने में बहुत से लाभ मिल पाते है। हमारी इस पोस्ट से आप को यातायात के संकेतो की विस्तृत जानकारी मिल पाएगी।

ड्राइविंग लाइसेंस प्राप्त करने के लिए क्या होना जरूरी है

इसी के साथ कोई भी व्यक्ति जो ड्राइविंग लाइसेंस रखता है और वाहन चलाने का पात्र है उसे यातायात संकेतों का उचित ज्ञान होना बहुत ही आवश्यक है। सरकार ने हर किसी व्यक्ति के लिए यह अनिवार्य कर दिया है जो यातायात संकेतों से अच्छी तरह वाकिफ होगा वो ही ड्राइविंग लाइसेंस प्राप्त करने का पात्र होगा।

उचित साइड इंडिकेटर्स का उपयोग करें

यदि अगर आप को बायां या दायां मुड़न है तो, सबसे पहले सीधे जाने वाले वाहनों को रास्ता दें साथ ही बाएं या दांये मुड़ने से पहले कुछ दूरी से पहले ही उचित साइड इंडिकेटर्स का उपयोग करें इस से आप के पीछे वाले वाहन को पता लग जाएगा की आप को किस ओर जाना है।

सड़क जंक्शनों, चौराहों और पैदल या ज़ेबरा क्रॉसिंग पर क्या जरूरी

इसी के साथ सामने वाले वाहन के अचानक ब्रेक लगाने या रोकने के कारण टकराव से बचने के लिए अपने सामने वाहन से पर्याप्त दूरी रखें ताकि यदि आगे वाला एकदम ब्रेक लगाता भी है तो आप सुरक्षित रहे। सड़क जंक्शनों, चौराहों और पैदल या ज़ेबरा क्रॉसिंग पर अपने वाहन को धीमा अवश्य कर ले।

याद रखें कि आपके वाहन की रुकने की दूरी उस गति पर निर्भर करती है जिस गति पर आप वाहन चला रहे हो। इसी के साथ रेड सिग्नल पर साथ ही ज़ेबरा क्रॉसिंग पर अपने वाहन को न रोकें बल्कि स्टॉप लाइन से पहले ही रुक जाए।

वाहन से ओवरटेक कैसे करे

इसी के साथ अपने दाहिने तरफ सभी ट्रैफिक को रास्ता दें, केवल दाईं ओर ओवरटेक करें साथ ही पुलों, संकरी सड़कों के साथ जंक्शनों, स्कूल ज़ोन और ज़ेबरा लेन पर ओवरटेक कभी भी ना करें।

ओवरटेक तब न करें जब एक वाहन पहले से ही उस वाहन को ओवरटेक कर रहा हो जिस वाहन को आप ओवरटेक करना चाहते हैं साथ ही ध्यान रहे की पीले लाइनों को पार नहीं किया जाना चाहिए।

पूर्ण एकाग्रता के साथ ड्राइव करें

आप दोपहिया वाहन चलाते समय हमेशा हेलमेट का प्रयोग करें जो आप को सुरक्षा प्रदान करेगा और यदि आप के पास चार पहिया वाहन हैं तो सीट बेल्ट का प्रयोग करें। साथ ही हमेशा अपनी पूर्ण एकाग्रता के साथ ड्राइव करें और गति सीमा पर रहें।

ज़िगज़ैग ड्राइविंग से बचने की कोशिश करें, जिस बजह से सड़क पर अन्य व्यक्तियों के लिए समस्याएं पैदा कर सकती हैं तो ऐसा कुछ ना करे जिस से आप की बजह से दूसरे व्यक्ति को हानि पहुंचे।

मोबाइल फोन पर बात न करें अधिकतर हादसे इसी दौरान होते

साथ ही वाहन चलाते समय कभी भी मोबाइल फोन पर बात न करें अधिकतर हादसे इसी दौरान होते है, इस लिए सतर्क रहे। अगर बहुत ही अर्जेंट कॉल है तो वाहन को साइड में रोक के बात करे, साथ ही व्यस्त ट्रैफ़िक या ध्वनि क्षेत्रों में हॉर्न के अधिक सम्मान से बचें।

रात के समय किन किन बातो को ध्यान में रखना आवश्यकता

साथ ही रात में ड्राइविंग करते समय अतिरिक्त सावधानी बरतें तथा ज्यादा अधिक साउंड से म्यूजिक न सुने, इस से आप को बाहर के हार्न की आवाज नहीं सुनाई देगी। तथा हादसा होने के खतरे भी बढ़ सकते है।

रात में बीम या उच्च फोकस प्रकाश का उपयोग न करें ध्यान रहे की आप की बजह से किसी अन्य व्यक्ति को कोई नुक्सान नहीं पहुंचना चाहिए।

साथ ही सबसे अहम बात दारु या कोई भी नशा कर के वाहन को कभी भी ना चलाये ऐसा करने से आप अपनी साथ अन्य लोगो की मौत के भी जिमेदार बन जाओगे अगर कोई हादसा हो जाता है तो इस लिए सतर्क रहे सुरक्षित रहे।