systematic-investment-plan

क्या होता है Systematic Investment Plan, जानिए पूरी जानकारी

आज के जमाने में हर कोई व्यक्ति पैसा कमाने के लिए अलग अलग तरीके ढूँढ रहा है, दुनिया आज तेजी से बदल रही साथ ही लोगो के निवेश के तरीको में भी बहुत बदलाव आ गया है, बताया जा रहा है की पहले लोग सिर्फ बैंक में FD और गोल्ड में ही निवेश के लिए उपयुक्त साधन मानते थे।

शेयर मार्केट, म्यूचुअल फंड, Gold ETF,

धीरे धीरे अब लोग निवेश के अन्य तरीके जैसे शेयर मार्केट, म्यूचुअल फंड, Gold ETF, जैसी जगह भी पैसे लगा कर अच्छा रिटर्न बना रहे है साथ ही आज लोगो के बीच एक टर्म बहुत प्रसिद्ध हो रही है वो है।

होता क्या है यह सिप

जो सिप या SIP के नाम से जानी जा रही है। आज नई युवा पीढ़ी के साथ साथ पुराने समय के लोग जो की पैसे को सिर्फ बैंक FD या फिर बचत खाते में ही रखना पसंद करते थे।

वो भी आज सिप (SIP) के माध्यम से अपने पैसे निवेश करने लगे है बहुत से लोगो को को शायद यह नहीं पता होगा की यह आखिरकार शिप है क्या आज हम आप को अपनी इस पोस्ट के माध्यम से विस्तार में जानकारी आप को देंगे।

म्यूचुअल फंड और SIP में क्या अंतर

कई लोगो तो इस शब्दो को सुनते ही खबराने लगते है की यह क्या बोल दिया जैसे SIP क्या है, इसका full form क्या है, म्यूचुअल फंड और SIP में क्या अंतर होता है साथ ही इसमें हमे कितने प्रतिशत का ब्याज प्राप्त मिलता है या फिर कितना percent return हमे यहां इन्वेस्ट करने से मिलेगा।

सबसे बड़ा सवाल कि इसमें रिस्क कितना है, इसका अहम कारण यह है की आज कल कोई भी व्यक्ति नहीं चाहता की कहीं हमारा पैसा डूब तो नहीं जाएगा हर किसी कोई अपने पैसे की फ़िक्र होती है।

साथ ही इन सभी सवालो के जवाब हम आप को अपनी इस पोस्ट में देंगे और साथ ही जानेंगे कि SIP के फायदे और नुकसान क्या हैं और आप को SIP के माध्यम से ही निवेश क्यों करना चाहिए या फिर नहीं आप को कितना लाभ यहां इन्वेस्टमेंट करने से हो सकता है।

Systematic Investment Plan

तो सबसे पहले जानते है की SIP का full form SIP का पूरा नाम Systematic Investment Plan है, इसी के साथ हिंदी में इसे व्यवस्थित निवेश योजना भी कहा जाता है जिसका मतलब है की सही तरीके से निवेश करना। इसका मतलब ऐसे निवेश से है जो कि Systematic यानी व्यवस्थित तरीके से किया गया हो उन्हें सिप निवेश कहते है।

म्यूचुअल फंड में अपने निवेश की frequency बना के एक निश्चित राशि का निवेश करके एक बड़ी राशि बना सकते

तो आइये जानते है उदहारण के लिए लोग पोस्ट ऑफिस में recurring deposit (RD) किया करते हैं साथ ही जिसमे आप को हर महीने रकम जमा करवानी पड़ती थी। उसी प्रकार के निवेश को म्यूचुअल फंड में SIP (Systematic Investment Plan) कहा जाता है.

जिसमे आप म्यूचुअल फंड में अपने निवेश की frequency बना के एक निश्चित राशि का निवेश करके एक बड़ी राशि बना सकते है यह ट्रेक आप के लिए बहुत ही उपयोगी और लाभदायक है।

SIP में आप के निवेश की frequency कुछ भी हो सकती

इसी के साथ SIP में आप के निवेश की frequency कुछ भी हो सकती है, जैसे साप्ताहिक, मासिक, त्रेमासिक आदि ये आप के ऊपर है कि आप किस frequency

में SIP के माध्यम से निवेश करना चाहते है, और कितने समय के लिए करना चाहते है आप अपने हिसाब से अपने समय अँसुअर सिप में निवेश कर सकते है।

SIP में निवेश करना चाहिए या म्यूचुअल फंड में

आज भारत में बहुत सारे लोग इस प्रकार के निवेश के संशाधन का उपयोग करने लगे है, और अच्छे रिटर्न प्राप्त कर रहे है इसी के साथ कई लोगो का ये सवाल होता है की हम को SIP में निवेश करना चाहिए या म्यूचुअल फंड में तो लोग पूछते है की SIP और म्यूचुअल फंड में क्या अंतर है।

म्यूचुअल फंड एक investment vehicle होता

प्राप्त जानकारी के अनुसार म्यूचुअल फंड एक investment vehicle होता है, इसी के साथ कई निवेशकों से इकठ्ठा किए गए पैसों को मिला कर बना होता है यहां कई निवेशों ने अपने पैसे लगाए हॉट है

इसी के साथ इसका उद्देश्य इन पैसों को शेयरों, बांडों, मुद्रा बाजार के साधनों और अन्य एसेट्स में निवेश करने का होता है जिस में निवेश कर के लाभ कमाया जाता है।

Lumsum इन्वेस्टमेंट

इसी एक साथ जानकारी के अनुसार SIP म्यूच्यूअल फंड्स में निवेश करने का एकमात्र तरीका नहीं है, इसके अलावा भी इस में निवेश करने के और भी कई मध्यम है जिस में आप निवेश कर सकते है।

आप विभिन्न तरीको से लाभ कमा सकते है इस के इलावा निवेश करने के लिए Lumsum इन्वेस्टमेंट जिसे हम एक मुस्त जमा भी कहते है। उस के द्वारा भी आप इन्वेस्टमेंट कर सकते है।

Systematic transfer प्लान

इसके साथ ही STP (Systematic transfer plan) SIP भी इन्वेस्टमेंट करने के लिए एक उपयुक्त साधन है। जिस के माद्यम से आप इन्वेस्टमेंट कर सकते है आप अपनी सुविधा के अनुसार किसी भी माध्यम से निवेश कर सकते है,

SIP को निवेश का एक अच्छा माध्यम माना जाता है। क्योंकि ये आप के लिए अच्छे रिटर्न के साथ-साथ आप ले खर्चे पर बोझ दिए बिना एक बड़ा अमाउंट एकत्रित कर सकते हैं।

लगभग 40 % folio में SIP के माध्यम से ही निवेश

आप SIP के माध्यम से म्यूचुअल फंड में निवेश के कई फायदे ले सकते है, इसी के साथ भारत में अधिकतर लोग SIP के माध्यम से ही निवेश कर रहे है, साथ ही लाभ ही आप AMFI के रिकॉर्ड के हिसाब से भारत में अभी तक 40 AMC में 8.52 करोड़ से ज्यादा folio है,

जिसमे लगभग 40 % folio में SIP के माध्यम से ही निवेश होता रहा है साथ ही अगर हम SIP के लाभ की बात करे तो वे निम्नलिखित मिल जायेगी।

म्यूचुअल फंड सीधे शेयर बाजार पर निर्भर होते

साथ ही म्यूचुअल फंड सीधे शेयर बाजार पर निर्भर होते है मुख्यतः इक्विटी फण्ड जिससे आप के निवेश पर हमेशा शेयर बाजार के उतार-चढ़ाव का खतरा बना रहता है

साथ ही अगर शेयर बाजार नीचे जाता है तो आप के म्यूचुअल फंड में निवेशित पैसा भी कम होता है इसी के साथ प्राप्त जानकारी के अनुसार इस रिस्क को देखते हुए एक मुस्त निवेश करने वाले निवेशक हमेशा सही समय का इंतजार करते रहते हैं।

जब शेयर बाजार नीचे भी जाता है तो स्तिथि में उस का लाभ कमाते है। साथ ही बात करे निवेश की तो उन्हें लगता है की हो सकता है और नीचे जाये और वे निवेश का निर्णय नहीं ले पाते इस लिए निवेश करने के लिए इस को मुख्य साधन माना जाता है।