one lakh rupee note

वेनेजुएला करेगा एक लाख रूपये का नोट जारी, अर्थव्यवस्था की हालत खराब

अभी तक आप ने ज्यादा से ज्यादा 2,000 के नोट के बारे में ही सुना होगा, मगर आज हम आप को जो जानकारी देने जा रहे हैं, उस को सुन के शायद आप भी हैरान हो जाओगे, जानकारी के अनुसार वेनेजुएला कभी लेटिन अमेरिका का आर्थिक रूप से सबसे समृद्धि देश हुआ करता था।

बताया जाता है कि यहां सोने और हीरों की खान के अलावा तेल का अकूत भंडार था। वेनेजुएला के पास एक समय साउदी अरब से भी अधिक मात्रा में तेल का भंडार मौजूद हुआ करते थे।लेकिन बीते 02 दशकों में इस देश की आर्थिक स्थिति बद से बदतर हो गई है।

इस देश में 07 लाख से अधिक ऐसे लोग रहते है

इसी के साथ मौजूदा स्थिति यहां की यह है कि यहां एक कप कॉफी के लिए लोगों को लाखों रूपये खर्च करने पड़ रहे हैं साथ ही इस देश में 07 लाख से अधिक ऐसे लोग हैं। जो दिन में 02 समय का खाना तक नहीं खा पाते हैं। यह सुन के शायद आप भी हैरान हो जाओ मगर असल में ऐसा है।

1,00,000 के नोट से भी 02 किलो आलू से ज्यादा कुछ नहीं आएगा

मगर अब सरकार ने फैसला लिया है कि वो एक लाख रूपये की वेल्यू के नोट छापेगी। अगर में आप को बोलू की उस 1,00,000 के नोट से भी 02 किलो आलू से ज्यादा कुछ नहीं आएगा तो शायद आप सोच में पद जाओ मगर असल में ऐसा है।

कभी वेनेजुएला कभी लेटिन अमेरिका का आर्थिक रूप से सबसे समृद्धि देश हुआ करता था

बताया जा रहा है कि वेनेजुएला कभी लेटिन अमेरिका का आर्थिक रूप से सबसे समृद्धि देश हुआ करता था मगर यहां सोने और हीरों की खान के अलावा यहां बहुत से तेल के अकूत भंडार हुआ करते थे साथ ही वेनेजुएला के पास एक समय साउदी अरब से भी अधिक मात्रा में तेल का भंडार मौजूद था।

लेकिन बीते 02 दशकों में इस देश की आर्थिक स्थिति बद से बदतर हो गई है जिस बजह से यहां के लोगों को बहुत सी परेशानियुओ का सामना करना पड़ रहा है।

लाखो रूपये की आ रही एक कप कॉफी

साथ ही यहां की मौजूदा स्थिति ऐसी है कि यहां एक कप कॉफी के लिए लोगों को लाखों रूपये खर्च करने पड़ रहे हैं। इस देश में सात लाख से अधिक ऐसे लोग हैं जो दिन में दो समय का खाना तक नहीं खा पाते हैं. वहीं अब सरकार ने फैसला लिया है कि वो एक लाख रूपये की वेल्यू के नोट छापेगी. हालांकि, उस नोट से भी दो किलो आलू से ज्यादा कुछ नहीं आएगा।

सरकार ने एक इतालवी फर्म से 71 टन नोट छापने के लिए सुरक्षित कागज आयात किये

ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के अनुसार बताया जा रहा है कि वेनेजुएला की सरकार 1 लाख बोलिवर (इसका रुपया) का नोट छापने जा रही है। साथ ही इसके लिए सरकार ने एक इतालवी फर्म से 71 टन नोट छापने के लिए सुरक्षित कागज आयात भी कर लिए है साथ ही बताया जा रहा है।

इतालवी कंपनी बैन कैपिटल के पास

वेनेजुएला की सरकार ने जिस फर्म से कागज आयात किया है, उसका स्वामित्व इतालवी कंपनी बैन कैपिटल के पास है साथ ही बताया जा रहा है की वो दुनिया के कई देशों में सुरक्षा कागज निर्यात करती है।

एक लाख की कीमत US $0.23 के बराबर होगी

इसी के साथ अगर सरकार 1 लाख बोलिवर का नोट छापती है, तो यह सबसे बड़ा मूल्यवर्ग का नोट बन जाएगा जो अभी तक शायद किसी भी देश ने जारी नहीं किया है। हालांकि, इसके बाद भी इसकी कीमत केवल US $0.23 की ही होगी और इसमें केवल 02 किलो आलू या आधा किलो चावल खरीदा जा सकेगा।

बड़ी मात्रा में नकदी ले जाने से बचाया जा सके इस लिए जारी किये नोट

साथ ही बताया जा रहा है कि वेनेजुएला में लोग बैगों और थैलों में भर-भरकर नोट लेकर बाजार जाते हैं और हाथों में एक से दो पॉलीथिन में सामान लिए घर आते हैं। साथ ही ऐसे में सरकार की योजना है कि लोगों को एक जगह से दूसरे जगह बड़ी मात्रा में नकदी ले जाने से बचाया जा सके।

वेनेजुएला की अर्थव्यवस्था बीते साल से मंदी की स्थिति

इसी लिए वेनेजुएला की अर्थव्यवस्था बीते साल से मंदी की स्थिति में है। इसी लिए इस साल कोरोना वायरस के कारण लगे लॉक डाउन और तेल की मांगो में आई कमी के चलते यहां के हालात भयावह हो गए हैं।

जिस वजह यह आशंका है कि इस वर्ष के अंत तक इस देश की अर्थव्यवस्था 20 प्रतिशत तक कम हो जाएगी जिस से यहां के लोगो को और भी ज्यादा नुक्सान पहुंच सकता है। इसी के साथ दूसरी तरफ देश में भ्रष्टाचार चरम सिमा पर है।

वेनेजुएला के हर 03 में से एक नागरिक के पास खाने के लिए भोजन प्राप्त नहीं

हैरानी की बात तो यह है कि आपको सड़क पर चलने के लिए रिश्वत देनी पड़ सकती है, साथ ही वेनेजुएला की सरकार देश का सोना बेचकर सामान खरीद रही है।

ऐसे में यूनाइटेड नेशन फूड प्रोग्राम एजेंसी ने फरवरी में कहा था कि वेनेजुएला के हर 03 में से एक नागरिक के पास खाने के लिए भोजन प्राप्त नहीं है।

साथ ही वहीं कोरोना वायरस के बाद यह स्थिति और बदतर हो गई है, जिस वजह से यहां लोगों को बहुत-सी परेशानियों का सामना कारण पड़ रहा है।